Search

साक्षात्कार कोमल गौतम…

वक्त करवटें लें रहा है.आज की नारी चारदीवारों को लाँघकर अपने बल पर आगे बढ़ रहीं हैं..जहाँ पहले महिलाओं के लिये सीमित करियर थे.परिवार वाले उन्हें केवल टीचिंग आदि क्षेत्र में ही भेजते थे .किंतु आज नारियाँ कई अपारंपरिक क्षेत्रों में भी करियर बना रहीं हैं एवं अपना लोहा मनवा रहीं हैं..ऐसी ही एक युवा नारी हैं कानपुर (उ.प्र.)निवासी कोमल गौतम.जो एक ऊभरती हुई फैशन कोरियोग्राफर है.कई महत्त्वपूर्ण कार्यक्रमों में फैशन कोरियोग्राफी कर चुकी कोमल गौतम आज की युवा पीढ़ी के लिये एक मिसाल हैं..आइये जानते हैं उनके जीवन के कुछ छुये-अनछुये पहलुओं को..
प्रश्न..१..अपने बारें में कुछ बतायें .
उत्तर..मेरा नाम कोमल गौतम है.मैं एक फैशन कोरियोग्राफर हूँ.इसके साथ साथ एक विद्यार्थी भी हूँ.एम.फिल की पढ़ाई कर रहीं हूँ.डांस करना,घूमना,लिखना और किताबें पढ़ना मुझे बेहद पसंद है.मेरे माता-पिता मेरे सबसे करीब हैं.
प्रश्न.२.फैशन कोरियोग्राफी की तरफ झुकाव कैसे हुआ ? इस क्षेत्र में आने की प्रेरणा कहाँ से मिली ?
उत्तर..मैं मिस कानपुर २०१३ रह चुकी हूँ.इसी सिलसिले को आगे बढ़ाने के लिये मैनें जनवरी २०१६ में स्टेट लेवल पर आयोजित ब्यूटी कॉंटेस्ट में भाग लिया.मैं टॉप १२ में चयनित हुई.उत्तर प्रदेश की बारह सबसे खूबसूरत महिलाओं में सम्मिलित होने का अनुभव बेहद शानदार रहा.वहाँ मैनें खुद को एक अलग रूप में पाया.यहीं से अागे बढ़ने का सिलसिला शुरु हुआ.इसके बाद एक समाचार पत्र द्वारा एक फैशन शो आयोजित हुआ.वहाँ बतौर मॉडल मेरी उपस्थिति थी.यहाँ बहुत कुछ सीखने को मिला.फिर इसी समाचार पत्र द्वारा एक के बाद एक फैशन शो आयोजित हुये..इसी दौरान मैनें फैशन कोरियोग्राफर का काम शुरु कर दिया.
प्रश्न.३.अब तक कहाँ कहाँ आपने फैशन कोरियोग्राफी की है ?
उत्तर..अब तक एक अखबार के लिये(अमर उजाला) के लिये सबसे ज्यादा फैशन कोरियोग्राफी की है.एक तीन साल के बच्चे से लेकर साठ साल की महिला तक को फैशन कोरियोग्राफी सिखा चुकी हूँ.उत्तर प्रदेश के कई शहरों में फैशन कोरियोग्राफी कर चुकी हूँ.
प्रश्न.४.फैशन कोरियोग्राफी एक अपारंपरिक करियर क्षेत्र है.जब आपने इस क्षेत्र में आगे बढ़ने की सोची तो आपके माता-पिता की क्या प्रतिक्रिया रही ?
उत्तर.शुरुआत में मैनें घर में कुछ नहीं बताया था.कॉलेज से ही मॉडलिंग आदि मे प्रतिभाग करती रही.इंटरनेट की मदद से काफी कुछ सीखती रही..सफल फैशन कोरियोग्राफी करने के बाद जब एक समाचार पत्र में जब मेरी फोटो एवं नाम छपा तब मेरे माता-पिता को इसकी जानकारी मिली कि उनकी बेटी एक फैशन कोरियोग्राफर है.शुरुआत में उनकी प्रतिकिया सकारात्मक नहीं थी. बार बार पढ़ाई पर ध्यान देने को कहते रहें..बाद में धीरे धीरे इस तरफ सकारात्मक हुये..
प्रश्न.५.फैशन कोरियोग्राफी का भारत में क्या स्कोप है ?
उत्तर..भारत एक समृद्ध सभ्यता एवं संस्कृति वाला देश है.आज भारतीय परिधानों की मांग विदेशो में बहुत है.भारतीय परिधानों को यदि अच्छी तरह प्रमोट किया जाये तो फैशन कोरियोग्राफी निश्चित रूप से बेहतर करियर है.
प्रश्न.६.जो युवावर्ग इस क्षेत्र में आना चाहते हैं उन्हें क्या संदेश देना चाहेंगी ?
उत्तर..मैं बस यही कहना चाहूंगी कि छोटे छोटे कपड़े पहनना फैशन नहीं है.फैशन खुद की एक अलग पहचान बनाने का जरिया है.यदि आपकी इसमें रूचि है तो निश्चित रूप से आगे बढ़े.फैशन की समझ विकसित करें.किसी एक्टर या एक्ट्रेस को कॉपी न करें..मौलिकता का विशेष रूप से ध्यान रखें..
प्रश्न.७.आपकी भविष्य की क्या योजनायें है ?
उत्तर..पढ़ाई में आगे पी.एचडी करने की तैयारी है.फैशन कोरियोग्राफी शब्द को भारत के हर व्यक्ति से परिचित कराना चाहती हूं..
प्रश्न.८.इतनी कम उम्र में इतनी प्रसिद्धि पाकर कैसा लगता है ?
उत्तर.यह मेरी मेहनत,लगन एवं माता-पिता के आशीर्वाद का परिणाम है.आज जब आस पडो़स वाले मुझे शाबाशी देते हैं तो बहुत अच्छा लगता है.मैं फैशन कोरियोग्राफी के क्षेत्र में कानपुर की पूरे देश में एक अलग पहचान बनाना चाहती हूं.
प्रश्न.९.क्या आप सामाजिक सरोकारों से भी जुड़ी हैं ?
उत्तर..जी हाँ .मैं एक सामाजिक संस्था रजत श्री फाउंडेशन से जुड़ी हुई हूँ जो महिलाओं के उत्थान में तत्पर है.यह बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान से जुड़ी संस्था है.
प्रश्न .१०.आप एक आत्मनिर्भर एवं सशक्त नारी हैं..नारियों को क्या संदेश देना चाहेंगी ?
उत्तर..सिर्फ नारी न कहो मुझे.
        नारी आत्मविश्वास से भरा द्वीप है
      समर्पण के मोतियों से भरा सीप है

खुद को कमजोर न समझे..जो भी करना चाहें पूरी लगन व मेहनत से करें..सभी बाधाओं को तोड़ आत्मनिर्भर बनें..

उभरती प्रतिभाएँ
कोमल गौतम
.फैशन कोरियोग्राफर
कानपुर (उ०प्र०)

Written by 

Related posts

Leave a Comment