Search

यूपी का हो रहा विकास , मरे हुए पीसीएस अधिकारी को भी मिला प्रमोशन और ट्रांसफर

लखनऊः इन दिनों योगी सरकार बहुत तेजी से सूबे की कानून व्यवस्था को सुधारने में लगी हुई है और बिना समय गवाय एक के बाद एक प्रशासनिक फेरबदल करती जा रही है। परन्तु लगता है इतनी तेजी में सरकार जीवित और मृत की पहचान भी भूल गई है। ताजा मामला अनुसार नियुक्ति कार्मिक विभाग ने एक मृत पीसीएस अफसर का न सिर्फ प्रमोशन कर दिया बल्कि उसका ट्रांसफर भी कर दिया।
विभाग की लापरवाही, लिस्ट से नहीं निकाला नाम
यूं कहे तो विभाग की नजर में मृत डिप्टी कलेक्टर गिरीश कुमार रिकॉर्ड में अब भी जिंदा हैं। शासन ने उन्हें एसडीएम से सिटी मजिस्ट्रेट बनाकर वाराणसी से बुलंदशहर ट्रांसफर भी कर दिया है। इतना ही नहीं मृत अफसर की खबर से अनजान बुलंदशहर जिला उनके ज्वाइनिंग का इंतजार भी कर रहा है।
पिछले साल नवंबर में हो चुकी है मृत्यु
बता दें मूलतः झारखण्ड के रहने वाले गिरीश कुमार वाराणसी में एसडीएम के पद पर तैनात थे। पिछले साल नवंबर में उनकी गंभीर बिमारी की वजह से निधन हो गया था।उनकी मौत के बाद बेटे को मृतक आश्रित कोटे से बेटे राहुल को वाराणसी जिला मुख्यालय पर रिकॉर्ड रूम में नौकरी भी दे दी गई।
लेकिन इसे नियुक्ति कार्मिक विभाग की लापरवाही ही कहेंगे कि वहां मौजूद कर्मचारी पीसीएस अफसर के निधन को ही भूल गए।
गौरतलब है कि रविवार को सरकार ने बड़ी तादाद में पीसीएस अफसरों के तबादले किए थे। जिसमे गिरीश कुमार का नाम भी शामिल है। गिरीश कुमार को बुलंदशहर का सिटी मजिस्ट्रेट बनाया गया है। लापरवाही की हद तो तब हो गई जब तबादले के 2 दिन बाद भी नियुक्ति कार्मिक विभाग के अधिकारी नहीं चेते।

Written by 

Related posts

Leave a Comment